MORRIS E-GOODMAN BIOGRAPHY IN HINDI

MORRIS E-GOODMAN BIOGRAPHY

Morries E. Goodman की अधभूत कहानी , दुनिया की अनोखी कहानी |

हम सभी लोगो को पता है की दुनिया से फाइट करना हम सभी के लिए कितना मुश्किल होता है | लेकिन क्या आप जानते है की इस संसार में कुछ ऐसे लोग भी होते है जो अपने आप को अच्छे से जानते है की वो क्या कर सकते है | अपने उपर भरोषा रखना , दुनिया का सबसे मुश्किल काम है ।

हम ऐसे लोगो की जीवनी को पढ़ कर दुनिया में बहुत कुछ सीख सखते है और अपनी दुनिया को बेहतरीन बना भी सकते है | आज हम फक्ट्स अँड बायोग्राफ़ि ब्लॉग पर ऐसे ही एक महान इंसान की जीवनी के बारे में पढ़ेंगे | जिनसे दुनिया को ये बताया की “हम मर कर भी , जिंदा हो सकते है” और उस महान इंसान का नाम Morries E. Goodman है ।

जिनकी कहानी से ये पता चला की इच्छाशक्ति के बलबूते पर हम दुनिया की किसी भी चीज़ को हासिल कर सकते है | Morries E. Goodman के ज़िंदगी की कहानी कुछ इस तरह शुरू हुई | Morries E. Goodman अमरीका के ऐसे इंसान थे , जिन्होने वो कर दिखाया जो दुनिया में कोई नहीं कर सका | हमारे आस पास ऐसे कई लोग है जिनकी जिंदगी में वही हुआ जो वो चाहते थे | और ये सिर्फ उनकी प्रबल इच्छाशक्ति की वजह से हुआ है |

Morries E. Goodman अमरीका में रहने वाले एक साधारण इंसान थे | अपनी कोलेग की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होने सोचा की वे एक अच्छे बिसनेसमेन बन सकते है | उन्होने अमरीका में अच्छे बिसनेसमेन के लिए कई कनसलटेंसी ली, लेकिन उसका कोई फर्क नहीं पड़ा | Morries E. Goodman ने सोचा की उन्हे एक अच्छा आइडिया एक बेहतरीन किताब से मिल सकता है | और इसी के साथ वे सीधे ही एक लाइब्रेरी को चले जाते है | जहां पर उन्हे “द सेक्रेट्स” नाम की किताब मिली | जिसे पढ़ने के

बाद Morries E. Goodman को पता चल गया की हम दुनिया में कुछ भी हासिल कर सकते है | उन्होने उस बूक में लिखे सारे राज को अपनाया जो अपने आप में बेमिसाल थे। और बहुत कम वक्त में वो अमरीका के जाने-माने बिसनेसमेन बन चुके थे |अपनी सफला के बाद Morries E. Goodman ने फैसला किया की उन्हे अब कुछ वक्त के लिए घूमना चाहिए | जिसके चलते Morries E. Goodman सीधे ही अपना privet प्लेन लेकर आसमान की शहर करने लगे | लेकिन morries के भाग्य में कुछ अलग लिखा हुआ था , जो उसके ज़िन्दगी को पूरी तरीके से बदलने वाला था । अचानक morries के प्लेन का फुयूल खत्म होने लगता है । जिसे देखकर मmorries अपना आपा खो देते है और बहुत ही बुरी तरीके से morries का प्लेन जमीन पर क्रेश हो गया । कहते है कि उस भयानक क्रेश के कारण morries के शरीर की तकरीबन 102 हड्डिया टूट चुकी थी । इस घटना के दौरान morries को जल्द हॉस्पिटल पहुचाया गया। डॉक्टर ने जब morries को कहां की इसकी हालत खराब है । प्लेन क्रैश के दौरान 102 हड्डियो के टूटने की वजह से उसका nervous systme पूरी तरके से खराब हो चुका है और बहुत morries कोमा में चला जायेगा । और morrie के पासब। ज्यादा समय नही बचा है।

MORRIS E-GOODMAN BIOGRAPHY IN HINDI

MORRIS E-GOODMAN BIOGRAPHY IN HINDI

इस बात को सुनने के बाद हॉस्पिटल में खड़ी morries का परिवार पूरी तरीके से पीड़ा में आ गया । उन्हें लगने लगा कि अब morries हमारे साथ ज्यादा वक्त के लिए नही है। वहां पर मरीज बेड पर लेटा हुआ morries डॉक्टर की बात को अच्छे से सुन रहा था । morries अपनी हल्की दबी आवाज में डॉक्टर की तरफ देखकर कहने लगा । में तुम्हारी कही बातों को नही मानता , दुनिया की कोई भी ताकत मुझे मार नही सकती। मैं खुद 30 दिन के बाद इसी हॉस्पिटल से अपने पैरों पर चल बाहर , घर को लौटूंगा ।

वहां पर सभी लोग morries के जज्बे को सुन रहे थे, लेकिन वे आचे से जानते थे कि morrie सिर्फ उत्तेजना और क्रोध में ये बात कर रहा है । क्योंकि morries , डॉक्टर से अधिक नही जानते थे। सब को लग रहा था कि अब morries उनके साथ नही रहने वाला । लेकिन वे सभी लोग भूल चुके थे कि morries की इच्छाशक्ति उसे फिर से जिंदा कर सकती है।

और वो दिन दूर नही था जब morries E. goodman अपनी कही बातों पर अमल कर रागे थे । और उन्ही 30 दिनों के बाद मोरिस पूरी तरीके से ठीक होकर अपने घर की तरफ लौटे। सारे डॉक्टर हैरान थे कि ये कैसे संभव हो सकता है लेकिन morries ने आखिकार वो कर दिखाया , जिसको उसने कहां था ।

जब मोरिस को पूछा गया कि ये सब तुमने कैसे किया ? टैब उन्हीने बताया कि जिस चीज़ के बारे में आप बार – बार positive सोचते है । उसे इस दुनिया मे संभव होना ही है और मैने तो अपने दिमाग को ये कह दिया था कि तुम्हे टिक 30 दिन के बाद यहाँ से अपने पैरों के दम पर निकलना है और यही सच्चाई है । और मेरा result आप सभी लोगो के सामने है।

मोरिस का कहना है कि जब आप किसी चीज़ को सोचते है । तब उसका होना और ना होना आपके अंदर की इच्छाशक्ति पर निर्भर करती है। और यही बात मेने अपने दिमाग मे अपने ठीक होने के positive विचार को उत्पन्न किया । और देखते ही देखते में ठीक हो गया।

तो दोस्तो मॉरिस की ज़िन्दगी से हमे यही सिख मिलती है कि हमे ज़िन्दगी सिर्फ एक बार मिली है , जिसने हमे ज़िन्दगी के साथ किसी प्रकार का समझौता नही करना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.